Author: admin

अंग्रेज चले गए भारत में India छोड़ गए

अंग्रेज चले गए भारत में India छोड़ गए

अंग्रेज चले गए भारत में India छोड़ गए अंधेरी रात में एक काफिला एक रेगिस्तानी सराय में जाकर ठहरा, उस काफिले के पास सौ ऊंट थे, उन्होंने खूंटियां गाड़कर ऊंट बांधे, किंतु अंत में पाया कि एक ऊंट अनबंधा रह गया है, उनकी एक खूंटी और रस्सी कहीं खो गई थी, अब आधी रात वे कहां खूंटी-रस्सी लेने जाएं!काफिले के सरदार ने सराय मालिक को उठाया – बड़ी कृपा होगी यदि एक खूंटी और रस्सी हमें मिल जाती, ९९ ऊंट बंध गए, एक रह गया–अंधेरी रात है, वह कहीं भटक सकता है।बूढ़ा बोला- मेरे पास न तो रस्सी है और न...

१० फरवरी २०२१ को संभावित ‘भारत सम्मान दीपोमय यात्रा’ सफल होगी

१० फरवरी २०२१ को संभावित ‘भारत सम्मान दीपोमय यात्रा’ सफल होगी

१० फरवरी २०२१ को संभावित ‘भारत सम्मान दीपोमय यात्रा’ सफल होगी वरिष्ठ पत्रकार व सम्पादक बिजय कुमार जैन द्वारा आव्हान ‘भारत सम्मान दीपोमय यात्रा’ :जब हम किसी नाम का उल्लेख करते हैं तो उनके सामाजिक व मनोवैज्ञानिक मायने तो होता ही हैं, साथ ही उसका अपना अस्तित्व व ताकत भी होता है ‘भारत’ में भी वही ताकत है, इसी तत्थ को सोचने, समझने व बनाए रखने के लिए, १० फरवरी से २१ फरवरी २०२१ को ‘भारत सम्मान दीपोमय यात्रा’ का आयोजन किया गया है, इस यात्रा को सफल बनाने के उद्देश्य से ‘मैं भारत हूँ’ समूह द्वारा गत १३ दिसम्बर २०२०...

२६ जनवरी-गणतंत्र दिवस-भारतीय स्वतंत्रता व स्वाभिमान का प्रतीक

२६ जनवरी-गणतंत्र दिवस-भारतीय स्वतंत्रता व स्वाभिमान का प्रतीक

२६ जनवरी-गणतंत्र दिवस भारतीय स्वतंत्रता व स्वाभिमान का प्रतीक इतिहास : भारत के संविधान को लागू किए जाने से पहले भी २६ जनवरी का बहुत महत्व था, २६ जनवरी को विशेष दिन के रुप में चिन्हित किया गया था, ३१ दिसंबर सन् १९२९ के मध्य रात्रि में राष्ट्र को स्वतंत्र बनाने की पहल करते हुए लाहौर में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अधिवेशन पंडित जवाहरलाल नेहरु की अध्यक्षता में हुआ,जिसमें प्रस्ताव पारित कर इस बात की घोषणा की गई थी कि यदि अंग्रेज सरकार २६ जनवरी १९३० तक भारत को उपनिवेश पद (Dominian States) नहीं प्रदान करेगी तो भारत अपने को पूर्ण स्वतंत्र घोषित...

लुणकरणसर का ऐतिहासिक विशेषांक अति प्रशंसनीय

लुणकरणसर का ऐतिहासिक विशेषांक अति प्रशंसनीय

लुणकरणसर का ऐतिहासिक विशेषांक अति प्रशंसनीय लूणकरणसर: ‘मेरा राजस्थान’ मुम्बई से प्रकाशित ‘लूणकरणसर’ के इतिहास दर्शन को झलकाती पुस्तक का विमोचन उपखण्ड अधिकारी भागीरथ साख द्वारा किया गया, इस अवसर पर श्री साख ने कहा कि ‘मेरा राजस्थान’ पुस्तक में ‘लूणकरणसर’ का इतिहास और विरासत का संग्रहण कर एकत्रित किया गया है, जो आने वाली पीढ़ियों के लिए लाभकारी सिद्ध होगा और उन्हें ‘लूणकरणसर’ के इतिहास की जानकरी प्राप्त होगी, इस अवसर पर ‘मेरा राजस्थान’ के सहयोगी ‘लूणकरणसर’ निवासी श्रेयांश बैद उपस्थित थे। मेरा राजस्थान पत्रिका की लूणकरणसर की प्रति जिला कलेक्टर नमित मेहता को भेंट करते हुए श्रेयांश बैद  ...

श्रीमान सेठ बहादुरमलजी सा. बांठिया

श्रीमान सेठ बहादुरमलजी सा. बांठिया

श्रीमान सेठ बहादुरमलजी सा. बांठिया संक्षिप्त परिचय: स्थानकवासी सम्प्रदाय के पुराने नायकों का स्मरण करने पर भीनासर (बीकानेर) के श्रीमान सेठ बहादुरमलजीसा. बांठिया का नाम अवश्य याद किया जाता है। आपने अपने जीवनकाल में समाज की बहुमूल्य सेवाएँ की हैं।समाज की अनेक प्रसिद्ध संस्थाओं के साथ आपका घनिष्ठ संबंध रहा है।सेठ बहादुरमलजी सा. आदर्श गुणों से युक्त महानुभाव थे। आपके हृदय की उदारता, सदाचारिता, सरलता औरसेवा प्रेम अणुकरणीय रहे हैं। भीनासर के बांठिया-वंश में उदारता तो परम्परागत वस्तु बन गई है। सेठबहादुरमलजी सा. को भी वसीयत में मिली थी। सेठजी के पितामह श्री हजारीमलजी बांठिया ने तत्कालीन समयमें एक लाख, एकतालीस...

आदर्श शिक्षालय श्री जवाहर विद्यापीठ

आदर्श शिक्षालय श्री जवाहर विद्यापीठ

आदर्श शिक्षालय श्री जवाहर विद्यापीठ भीनासर: हुक्म संघ के षष्ठम आचार्य ज्योर्तिधर श्री जवाहरलाल जी महाराज एक महान क्रांतिकारी क्रांतद्रष्टायुगपुरुष हुए थे। अपने जीवन के अन्तिम दो वर्ष स्वास्थ्य अनुकूल न होने से सेठ हमीरमल जी बाँठियास्थानकवासी जैन पौषधशाला में विराजे और आषाढ़ शुक्ला अष्ठमी संवत् २००० को इसी पौषधशाला के हॉल मेंउन्होंने संथारा पूर्वक अपनी देह का त्याग किया। उनकी महाप्रयाण यात्रा के बाद चतुर्विध संघ द्वारा एकश्रद्धांजलि सभा सेठिया कोटड़ी बीकानेर में आयोजित की गई थी जिसमें उनके भक्त भीनासर के सेठचम्पालालजी बाँंठिया ने उनकी स्मृति में ज्ञान दर्शन चरित्र की आराधना हेतू एक जीवन्त स्मारक बनाने कीअपील पूरे...

संयम साधना के शिखर पुरूषअवधुत श्री पूर्णानन्दजी

संयम साधना के शिखर पुरूषअवधुत श्री पूर्णानन्दजी

संयम साधना के शिखर पुरूषअवधुत श्री पूर्णानन्दजी वह परम चिन्मयी सत्ता जिसने यह उपलब्ध कर लिया न मैं नामरूप हूँ, न ये नामरूप मेरे हैं, मैं अखण्ड, अद्वैतसच्चिदानन्द ब्रह्म हूँ' ऐसी चिन्मयी सत्ता इस संसार से चले जाने पर भी ज्यों-की-त्यों अखण्ड रह जाती है। घड़े केफूटने से आकाश नहीं फूट जाता, वह न तो घड़े का बन्दी था न उसका मुखापेक्षी। नाम और रूप की मिथ्याग्रन्थियों से छूट कर वह अपने अखण्डानन्द स्वरूप में स्थित हो जाता है। यही उस ब्रह्मविद्‌-निष्ठ के लिए भीसत्य है जिसे जगत संत शिरोमणि पूर्णानन्दजी महाराज ‘बापजी' के नाम से जानते हैं।श्री १००८ अवधूत संत...

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता ‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता १६ मार्च १९४१ ई. को यहाँ के जनहितैषी शासक तारासिंह जी के नाम पर चुरु जिले का कस्बा ‘तारानगर’ बना था, इससे पहले इस परिक्षेत्र का नाम ‘रिंणी’ था। ‘‘रिंणी’’ का नाम आते ही उत्सुकता रहती है कि ‘रिंणी’ नाम कब व क्यों पड़ा था यथा अलवर में रीणी भी है। ‘रिणी’ जियोलोजीकल शब्द है, जिसका अर्थ है कि जल शुष्क होने से बने रेतीले मैदान को ‘रिन’ ‘रिंणी’ ‘रैनी’ ‘रैणी’ (बोली के कारण) कहेंगे, ईसा से लगभग २००० वर्ष पूर्व (जब भी नदियां शुष्क हुई) यानी आज से लगभग ४००० वर्ष पूर्व...

महाराजा डूँगरसिंह बीकानेर

महाराजा डूँगरसिंह बीकानेर

बीकानेर राज्यबीकानेर राज्य की तत्कालीन डूँगरगढ़ तहसील के संबंध में भी राय बहादुर हुक्म सिंह सोढ़ी ने कतिपय मूल्यवान तथ्यात्मक जानकारियां अपनी कृति में समाहित की है। सोढ़ी लिखते हैं कि डूँगरगढ़ तहसील में कुल ७९ गांव हैं जिनमें से तीन गांव खालसा श्रेणी के हैं जबकि शेष सभी गांव पट्टेदारों के जागीरी गांव है। उन्होंने लिखा है कि डूँगरगढ़ तहसील की कुल जनसंख्या ४४००७ है, जिसमें २२०६३ पुरुष तथा २१४०४ महिलाएं है, वे यह भी लिखते हैं कि इस आबादी में ४१०५३ हिंदू तथा ११२१ मुस्लिम हैं जबकि १८३३ लोग अन्य जातियों से हैं, यहां पर स्थित डाकखानों तथा पोलिस...