Category: श्री बाबा गंगाराम की परम आराधिका

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता

‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता ‘रिंणी’ तारानगर की प्राचीनता १६ मार्च १९४१ ई. को यहाँ के जनहितैषी शासक तारासिंह जी के नाम पर चुरु जिले का कस्बा ‘तारानगर’ बना था, इससे पहले इस परिक्षेत्र का नाम ‘रिंणी’ था। ‘‘रिंणी’’ का नाम आते ही उत्सुकता रहती है कि ‘रिंणी’ नाम कब व क्यों पड़ा था यथा अलवर में रीणी भी है। ‘रिणी’ जियोलोजीकल शब्द है, जिसका अर्थ है कि जल शुष्क होने से बने रेतीले मैदान को ‘रिन’ ‘रिंणी’ ‘रैनी’ ‘रैणी’ (बोली के कारण) कहेंगे, ईसा से लगभग २००० वर्ष पूर्व (जब भी नदियां शुष्क हुई) यानी आज से लगभग ४००० वर्ष पूर्व...

महाराजा डूँगरसिंह बीकानेर

महाराजा डूँगरसिंह बीकानेर

बीकानेर राज्यबीकानेर राज्य की तत्कालीन डूँगरगढ़ तहसील के संबंध में भी राय बहादुर हुक्म सिंह सोढ़ी ने कतिपय मूल्यवान तथ्यात्मक जानकारियां अपनी कृति में समाहित की है। सोढ़ी लिखते हैं कि डूँगरगढ़ तहसील में कुल ७९ गांव हैं जिनमें से तीन गांव खालसा श्रेणी के हैं जबकि शेष सभी गांव पट्टेदारों के जागीरी गांव है। उन्होंने लिखा है कि डूँगरगढ़ तहसील की कुल जनसंख्या ४४००७ है, जिसमें २२०६३ पुरुष तथा २१४०४ महिलाएं है, वे यह भी लिखते हैं कि इस आबादी में ४१०५३ हिंदू तथा ११२१ मुस्लिम हैं जबकि १८३३ लोग अन्य जातियों से हैं, यहां पर स्थित डाकखानों तथा पोलिस...

श्रीडूँगरगढ़

श्रीडूँगरगढ़

श्रीडूँगरगढ़ राजस्थान के बीकानेर जिले का एक प्रगतिशील क़स्बा है, प्रकृति द्वारा निर्मित चारों तरफ रेतीले टिल्लों से घिरा अपने आप में एक दर्शनीय स्थल है, इसकी बसावट एक प्याले के आकार की है तथा शहर के एक किनारे से दूसरे किनारे के सीधे रास्तों के कारण आर-पार देखा जा सकता है एवं प्रत्येक रास्ता चौराहा बनाता है। बीकानेर – दिल्ली रेलवे मार्ग एवं राष्ट्रीय राजमार्ग -११ पर बीकानेर से ७० किमी. पहले स्थित है, इसकी वर्तमान आबादी ग्रामीण क्षेत्र २४१०८४ तथा शहरी ५३३१२ जिसमें पुरूषों की १५३५५३ एवं महिलाओं की १४०८४२ हैं, जो नगरपालिका मंडल के ३० वार्डो में विभाजित...

अपना उत्सव द्वारा श्री माहेश्वरी क्लब

अपना उत्सव द्वारा श्री माहेश्वरी क्लब

चेन्नई: श्री माहेश्वरी क्लब, श्री माहेश्वरी सभा के अंतर्गत एक इकाई है। पिछले ४० वर्षों से समाज के युगल सदस्यों के लिए स्नेह मिलन, आपसी मेल-मिलाप, स्वास्थ्य और उनके मनोरंजन संबंधित कार्यक्रम करता आया है। सदस्यों के लिए उपरोक्त कार्यक्रमों के अलावा समाज के लिए भी ‘‘अपना उत्सव’’ जैसा सांस्कृतिक कार्यक्रम करता आया है, जिसमें अपने समाज की छुपी हुई प्रतिभाओं को उजागर करना व मंच देने का अवसर प्रदान करना मुख्य है। पूरे सत्र में आई सदस्यों की फीस की ५% राशि को समाज सेवा के कार्यों के लिए खर्च करता आया है, इसके अंतर्गत क्लब ने समय-समय पर स्वास्थ्य...

महाकुंभ

महाकुंभ

अखिल भारतवर्षीय माहेश्वरी महासभा द्वारा जनवरी २०१९ के पहले सभा में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय माहेश्वरी महावुंâभ एवं ग्लोबल एक्सपो के लिए २२ सितंबर को जोधपुर के श्रीराम इंटरनेशनल होटल में आयोजित एक विशाल कार्यकर्ता सम्मेलन में अ.भा.मा. महासभा के महामंत्री श्री संदीप काबरा ने बताया कि ४ से ७ जनवरी २०१९ तक आयोजित ग्लोबल माहेश्वरी एक्सपो अपने आप में अनूठा और अविस्मरणीय होगा, आगे आपने कहां यह एक्सपो समाज के युवाओं की दिशा बदलने वाला सिद्ध होगा एवं युवाओं से आव्हान किया, जो युवा जीवन में कुछ कर गुजरने भी भावना रखते हैं, उन्हें इस माहेश्वरी एक्सपो को जरूर देखना और समझना...

मनोरंजन जगत

मनोरंजन जगत

फिल्में सदा से किसी भी संस्कृति के फैलाव का महत्वपूर्ण माध्यम रही है, लेकिन इस पैमाने पर यदि हम राजस्थानी फिल्मों का मूल्यांकन करें, तो परिणाम चिंताजनक दिखाई देता है। पूरी दुनिया में वीरता, त्याग और बलिदान की धरती के रूप में पहचाने जाने वाले राजस्थान की संस्कृति के फैलाव में राजस्थानी भाषा की फिल्में जो भूमिका अदा कर सकती थी, वो अब तक नहीं कर पायी है। सभी राजस्थानियों के लिए यह गर्व की बात है कि उनके पास विश्व की सबसे गौरवशाली ऐतिहासिक विरासते हैं। स्वर्णाक्षरों में अंकित राजस्थान के लोकेशन और सिचुएशन आज की पीढ़ी के लिए भी...

श्री आदर्श

श्री आदर्श

मुंबई: श्री आदर्श रामलीला समिति मुम्बई का ५५ वाँ रामलीला महोत्सव का शुभारंभ मुकेश शेट्टी ने सपत्नीक श्री गणेश पूजन कर किया। महोत्सव दिनांक ०९ अक्टूबर २०१८ से लेकर १८ अक्टूबर २०१८ तक गिरगाँव चौपाटी मुम्बई सागर तट पर संस्थाध्यक्ष शरण पी. खन्ना की अध्यक्षता, मानदमंत्री राजेन्द्र अग्रवाल के निर्देशन तथा बैजनाथ चतुर्वेदी (श्री अनंत रामलीला मंडल मथुरा) के संचालन में ४० कलाकारों द्वारा सम्पन्न किया गया। प्रतिदिन १० दिनों तक भगवान श्रीराम के विभिन्न चरित्रों के माध्यम से भक्तिमय व शिक्षाप्रद आयोजन का उपस्थित जन समूह ने लाभ उठाया। कार्यक्रम के अंतिम दिन १८ अक्टूबर २०१८ को राम-रावण युद्ध के...

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के चौथे चरण का शुभारंभ

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के चौथे चरण का शुभारंभ

दूसरे राज्य भी अपनाएं यह अभियान : मुख्यमंत्री ने कहा कि जल स्वावलम्बन अभियान को अन्य प्रदेशों में लागू करने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने सिफारिश की है। नीति आयोग की नेशनल वाटर इंडेक्स रिपोर्ट में भी इस अभियान का विशेष उल्लेख किया गया है, केन्द्रीय कृषि मंत्रालय ने इस अभियान के प्रजेंटेशन के लिए हमें आमंत्रण दिया है ताकि अन्य राज्य भी इसे अपना सकें। ४.६६ फीट बढ़ा भूजल स्तर : श्रीमती राजे ने कहा कि इस अभियान में शामिल गांवों में औसतन ४.६६ फीट भूजल स्तर बढ़ गया है, ६३ प्रतिशत हैंडपम्प में दोबारा पानी आ गया है,...