मुख्यपृष्ठ

दिवाली स्नेह मिलन समारोह संपन्न

दिवाली स्नेह मिलन समारोह संपन्न

ठाणे अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन की ओर से आयोजित दिवाली स्नेह मिलन में ये शाम मस्तानी संगीत कार्यक्रम का आयोजन किया गया, ठाणे समिति के चेयरमैन महेश बंशीधर अग्रवाल ने बताया कि दिवाली के निमित्त समाज को एक छत के नीचे आपस में मिलकर खुशियाँ बाँटने का कार्य किया गया है। ठाणे के डॉ.काशीनाथ घाणेकर हाल में आयोजित इस संगीतमय शाम में मुख्य अतिथि लायन हनुमान अग्रवाल, लक्ष्मीनारायण अग्रवाल, रमनलाल अग्रवाल, ओमप्रकाश भजनलाल अग्रवाल, रेखा गुप्ता, शिवकांत खेतान, अनूप गुप्ता, सुमन अग्रवाल, सुरेंद्र रुईया, ब्रिजबिहारी मित्तल, दर्शना अग्रवाल, बरखा अग्रवाल व पद्मा अग्रवाल आदि उपस्थित थे, कार्यक्रम को सफल बनाने में... ...
राजस्थानी फिल्म एसोसिएशन का प्रथम दीपावली स्नेह सम्मेलन

राजस्थानी फिल्म एसोसिएशन का प्रथम दीपावली स्नेह सम्मेलन

मुंबई के बोरीवली स्थित नंदनंदन मुंबई: मुंबई के बोरीवली स्थित नंदनंदन भवन में राजस्थानी फिल्म एसोसिएशन द्वारा प्रथम बार दीपावली स्नेह सम्मेलन का आयोजन किया गया,इस रंगारंग कार्यक्रम में राजस्थानी व हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कलाकार, निर्माता-निर्देशक, गायक आदि उपस्थित थे, एसोसिएशन के अध्यक्ष सुश्री नीलू वाघेला, कार्यकारी अध्यक्ष सुधाकर शर्मा, उपाध्यक्ष दीनदयाल मुरारक सचिव अरविंद कुमार, प्रवक्ता सन्नी मंडावरा कोषाध्यक्ष त्रिलोक सिरसरेवाला, संगठन मंत्री अशोक बाफना, मीडिया प्रभारी वैâलाश चौधरी के साथ रवि जैन, ज्योति नारायण पटेल रेणु जैन, गौरी वानखेडे, राजेश मड़लोई, सचिन चौवे, उषा जैन नेहाश्री, श्रवण जैन, माहि शंकर अग्रवाल, नरेश पुरोहित, निर्षेध सोनी कर्मवीर चौधरी, मनिष... ...
फ्रूट थैरेपी

फ्रूट थैरेपी

यदि हम स्वास्थ्य के प्रति पूर्ण जागरूक हैं तो निश्चित ही हमारा जीवन शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक अनुकूलित का समवेत व्यक्तित्व बन सकता है। प्राकृतिक चिकित्सा में आहार को ही प्रमुख औषधि माना गया है। सात्विक आहार की नियमितता हमें पूर्ण स्वस्थ बना सकती है। अन्कुरित अनाज, ऋतु अनुकूलित हरी सब्जी, फल आदि का सेवन निश्चित ही स्वास्थ्य को स्वस्थ बनाए रखता है। सन्तुलित भोजन, विश्राम, व्यायाम, योगाभ्यास आदि का दूसरा नाम ही प्राकृतिक चिकित्सा है। वैज्ञानिक अनुसन्धान से ज्ञात हुआ है कि शाकाहारी भोजन के साथ फलों का आहार शरीर को चिरयौवन प्रदान करता है। मांसाहारी और तेज मिर्च मसाले... ...
स्वाभिभक्त ‘‘पन्ना धरा’’

स्वाभिभक्त ‘‘पन्ना धरा’’

‘‘पन्ना धरा’’ पन्ना धाय आमेट ठिकाने के कमेरी गांव की गुजर्र जाति की महिला थी। रानी कर्मवती ने जौहर से पूर्व कूँवर उदय को पन्ना को सौंपा था। एक दिन मौका पाकर दृष्ट बनवीर ने महाराणा विक्रमादित्य की हत्या कर, सांगा के वंश को निर्मूल करने के उद्देश से उदय की हत्या हेतू नंगी तलवार लेकर पन्ना धाय के पास पहुँचा।परिस्थिति की गंभीरता देख पन्ना धाय ने उदय की हम अपने पुत्र चन्दन को उदय के कपड़े पहनाकर कटवा दिया। मेवाड़ के राजवंश को सुरक्षित रखने के लिए पन्ना ने अपने पुत्र की बलि दे दी। उदयसिंह को पत्तों की टोकरी... ...
राजस्थानी लोकनाट्य

राजस्थानी लोकनाट्य

राजस्थानी लोकनाट्य लोक अर्थात जन-जन के कंठ पर आसीन साहित्य ही लोकसाहित्य है, इस कंठासीन साहित्य से तात्पर्य मौखिक अथवा वाचिक साहित्य से है, यह साहित्य परम्पराशील होता है और उन लोगों में व्याप्त होता है जो दिखावे से दूर सहज प्रवृत्तियों में संस्कारित होते हुए परिपाटीगत आस्था एवं विश्वासों की डोर में बंधे सामूहिक जीवन के सहयात्री होते हैं,वे समष्टिगत धर्म-कर्म तथा अध्यात्म- अनुष्ठान के जीवनचक्र से बंधी लोकमानसीय प्रज्ञा-मनीषा के महत्वपूर्ण हिस्से होते हैं, उनका व्यक्ति गौण होता है, वे समग्रत: लोक के वशीभूत होते हैं, यही कारण है कि उनमें प्रचलित गीत, नाट्य, कथा, वार्ता, प्रहसन, नृत्य, शिल्प,... ...
?>