मुख्यपृष्ठ

एक र्इंट-एक रुपये’ की आज जरूरत है

एक र्इंट-एक रुपये’ की आज जरूरत है

अपने युग की एक महान विभूति थे, वे एक कुशल राजनीतिज्ञ थे, पराक्रमी योद्धा थे और प्रजा के हितकारी सह्रदय राजा थे। अपनी प्रजा एवं राज्य की सुरक्षा के लिये उन्होंने सुरक्षित अग्रोहा नगर बसाया, सुदृढ़ कोट से घिरा नगर, जिसमें करीब सवा लाख से भी अधिक घरों की बस्ती थी, उनके सबल हाथोें में प्रजा सुरक्षित थी, इसीलिए नागरिक निश्चिन्त होकर अपने काम-धन्धे में लगे रहते थे। `अग्रोहा’ पूर्णत: वैश्य-राज्य था, व्यापारियों, किसानों, कर्मकारों शिल्पकारों और उद्योग-धन्धे करने वालों का राज्य। वैश्य होते हुए भी महाराज अग्रसेन क्षत्रियों से भी अधिक कुशलता से शासन का संचालन करते थे। राज्य दिनों-दिन... ...
महाराजा अग्रसेन का युगीन संदेश

महाराजा अग्रसेन का युगीन संदेश

महापुरूष अपने जीवन में कुछ ऐसे आदर्शों की स्थापना करते हैं जो चिर युगीन हो जाते हैं, आने वाले युगों में राष्ट्र या समाज उनका अनुकरण कर अपने जीवन को मुदमंगलमय बनाता है, वे महापुरूष मात्र वाणी से आदर्शों की व्याख्या नहीं करते अपितु उन्हें अपने जीवन में कर्म से भी उतारते हैं। ऐसे महापुरूषों को हम मर्यादा पुरूषोत्तम राम, योगेश्वर कृष्ण, बुद्ध, महावीर स्वामी, चाणक्य, महात्मा गाँधी आदि के नाम से जानते हैं। ऐसे ही युगपुरूषों में महाराजा अग्रसेन का नाम अत्यन्त श्रद्धा से लिया जाता है। महाराज अग्रसेन का उद्भव द्वापर एवं कलियुग के संधिकाल में हुआ था। महाभारत... ...
भगवान परशुराम

भगवान परशुराम

एक बार कुछ किसान महाराजा अग्रसेन के पास पहुँचे, उन्होंने जंगली पशुओं द्वारा उपज को हानि से बचाने का महाराजा अग्रसेन से अनुरोध किया। महाराजा अग्रसेन ने कहा कि वह इस समस्या का निराकरण करेंगे, वह अपने कुछ सैनिकों के साथ जंगल में गए और वहां पर कृषि उपज को हानि पहुँचाना वाले मृगों व अन्य पशुओं को मार गिराया। जंगल से लौटते समय उनका सामना भगवान परशुराम से हुआ। परशुराम. जंगल से लौटते समय उनका सामना भगवान परशुराम से हुआ। परशुराम महाराजा अग्रसेन को आशीर्वाद देने के पश्चात जंगल में आने का कारण पूछा। अग्रसेन ने उन्हें कृषकों की समस्याओं... ...
महाराजा अग्रसेन

महाराजा अग्रसेन

अग्रसेन ने जब युवा अवस्था में प्रवेश किया तब नागलोक के राजा कुमुद के यहां से राजकुमारी माधवी के स्वयंवर का समाचार आया महाराजा ने अपने दोनों पुत्रों अग्रसेन और शूरसेन को इस स्वयंवर में भाग लेने के लिए भेजा, इस स्वयंवर में भू-लोक के ही नहीं अपितु देवलोक से भी अनेक राजकुमार भाग लेने आए थे, इन्द्र भी उनमें से एक थे। राजकुमारी माधवी ने जब स्वयंवर भवन में प्रवेश किया तो उसकी रूप-राशी को देखकर इन्द्र स्तब्ध रह  में जहाँ राजस्थान व हरियाणा राज्य है इन राज्यों के बीच सरस्वती नदी बहती थी, इसी सरस्वती नदी के किनारे प्रतापनगर... ...
दधीचि तीर्थ (मिश्रीत) के विकास के लिए

दधीचि तीर्थ (मिश्रीत) के विकास के लिए

ऋषिश्रेष्ठ त्यागमूर्ति महर्षि दधीचि की तपोभूमि देहदान स्थल एवम् महामुनि पिप्लाद की जन्मभूमि ‘‘मिश्रीत’’ के सर्वांगीण विकास हेतु सनातन धर्म संसद नैमिषारण्य की पावन भूमि पर अष्टोत्तर शत श्रीमद् भागवत कथा ज्ञानयज्ञ महोत्सव का आयोजन मिश्रीत श्रीमद् भागवत कथा आयोजन समिति द्वारा १२ सितम्बर से १८ सितम्बर २०१८ हनुमानगढ़ी नैमिषारण्य (उत्तर प्रदेश) में सानन्द सम्पन्न हुआ। राष्ट्रसंत परमपूज्य विद्यावाचस्पति आचार्य स्वामी श्री गोविन्द देव गिरीजी महाराज ने अपनी मधुर वाणी में ज्ञान, भक्ति एवम् वैराग्य स्वरूप त्रिवेणी में श्रीमद् भागवत कथा का रसपान हजारों श्रद्धालु भक्तों को करवाया। भारत के विभिन्न प्रान्तों से पधारे श्रद्धालु भक्तजनों ने भगवान की पावन कथा... ...